Non Co-operation Movement in Hindi | असहयोग आंदोलन हिंदी में
असहयोग आंदोलन हिंदी में

Non Co-operation Movement in Hindi -: विभिन्न आंदोलनों से निपटने के लिए अंग्रेजी सरकार ने सन 1919 में रोलेट एक्ट [Rowlett Act] पारित किया. इसी दौरान गांधीजी द्वारा कुछ सभाएं भी आयोजित की गयी और उन्हीं सभाओं की तरह ही अन्य स्थानों पर भी सभाओं का आयोजन किया गया. इसी प्रकार की एक सभा पंजाब के अमृतसर क्षेत्र में जलियांवाला बाग में बुलाई गयी थी और वहाँ इस शांति सभा को अंगेजों ने जिस बेरहमी के साथ रौंदा था, उसके विरोध में गांधीजी ने सन 1920 में असहयोग आंदोलन प्रारंभ किया. इस असहयोग आंदोलन का अर्थ ये था कि भारतीयों द्वारा अंग्रेजी सरकार की किसी भी प्रकार से सहायता ना की जाये. परन्तु इसमें किसी भी तरह की हिंसा नहीं हो.

Non Co-operation Movement in Hindi | असहयोग आंदोलन हिंदी में

mobilewalajob WhatsApp Group 1 Acchi Taiyari

Non Co-operation Movement in Hindi

विस्तृत वर्णन (Description in Detail)

यह आंदोलन सितम्बर, 1920 से शुरू हुआ और फरवरी, 1922 तक चला था. गांधीजी द्वारा चलाये गये 3 प्रमुख आंदोलनों में से यह पहला आंदोलन था. इस आंदोलन को शुरू करने के पीछे महात्मा गांधी की ये सोच थी कि भारत में ब्रिटिश सरकार केवल इसीलिए राज कर पा रही है, क्योंकि उन्हें भारतीय लोगों द्वारा ही सपोर्ट किया जा रहा हैं, तो अगर उन्हें ये सपोर्ट मिलना ही बंद हो जाये, तो ब्रिटिश सरकार के लिए भारतीयों पर राज कर पाना मुश्किल होगा, इसलिए गांधीजी ने लोगों से अपील की कि वे ब्रिटिश सरकार के किसी भी काम में सहयोग न करें, परन्तु इसमें किसी भी प्रकार की हिंसात्मक गतिविधि शामिल न हो. लोगों को गांधीजी की बात समझ में आयी और सही भी लगे.

लोग बहुत बड़ी मात्रा में, बल्कि राष्ट्रव्यापी [Nationwide] स्तर पर आंदोलन से जुड़ें और ब्रिटिश सरकार को सहयोग करना बंद कर दिया. इसके लिए लोगों ने अपनी सरकारी नौकरियां, फेक्ट्री, कार्यालय, आदि छोड़ दिए. लोगों ने अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों और कॉलेजों से निकाल लिया. अर्थात् हर वो प्रयास किया, जिससे अंग्रेजों को किसी भी प्रकार की सहायता ना मिले.

Non Co-operation Movement in Hindi

परन्तु इस कारण बहुत से लोग गरीबी और अनपढ़ होने जैसी स्थिति में पहुँच गये थे, परन्तु फिर भी लोग ये सब अपने देश की आज़ादी के लिए सहते रहे. उस समय कुछ ऐसा माहौल हो गया था कि शायद हमें तभी आज़ादी मिल जाती. परन्तु आंदोलन की चरम स्थिति पर गांधीजी ने चौरी-चौरा नामक स्थान पर हुई घटना के कारण इस आंदोलन को समाप्त करने का निर्णय ले लिया.

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें…

About Mahatma Gandhi | महात्मा गाँधी के बारे में – जीवन परिचय माता-पिता, पत्नी, बेटा -बेटी, हत्यारे का नाम, जन्म- मृत्यु, आंदोलनों के नाम

yoyo Gif Tele Acchi Taiyari

Previous articleQuit India Movement in Hindi | भारत छोड़ो आंदोलन हिंदी में
Next articleChauri Chauri Incident in Hindi | चौरी-चौरा कांड हिंदी में