Pradhanmantri Fasal Bima Yojana 2022 (PMFBY List) प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022: किसान रजिस्ट्रेशन व लाभार्थी सूची

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana 2022 in hindi | Apply Online Fasal Bima Yojana 2022 | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना | Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana | Fasal Bima Yojana Form Download | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आवेदन ऑनलाइन फॉर्म 

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana 2022 के अंतर्गत ओलावृष्टि या बेमौसम बारिश से कहीं भी फसलों का नुकसान (Crop Loss) होता है तो किसानों को अपने जिले में कार्यरत बीमा कंपनी को 72 घंटे में इसकी जानकारी देना जरूरी है. राजस्थान सरकार ने अपने सूबे के किसानों को कहा है कि जो लोग प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana) में शामिल हैं और उनकी फसलों को क्षति पहुंची है उन्हें कंपनियों को सूचना देनी होगी. वरना मुआवजा मिलने में कठिनाई होगी. राज्यभर से सोमवार शाम तक 10 हजार से अधिक ऐसी सूचनाएं फसल बीमा कंपनियों को मिल चुकी हैं. प्रदेश के कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया ने सभी बीमा कंपनियों को टोल फ्री नंबर (Toll-free Number) 24 घण्टे निर्बाध रूप से कार्यरत रखने के निर्देश दिए हैं.

Table of Contents

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana 2022

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana 2022 के तहत कटारिया ने साथ ही क्षेत्रीय अधिकारियों को प्रभावित एवं बीमित फसल के किसानों के आवेदन पत्र भराने के लिए पाबंद किया है. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत बीमित किसानों को मुआवजा (Compensation) तभी मिलता है जब वो समय से नुकसान की जानकारी संबंधित कंपनी को दे दें. कृषि मंत्री कटारिया ने बताया कि वर्तमान में मौसम की विपरीत परिस्थितियों के कारण किसानों की फसलों में नुकसान हुआ है. फसल बीमा योजना के तहत ओलावृष्टि व जलभराव के कारण बीमित फसल में नुकसान होने पर किसान को व्यक्तिगत आधार पर बीमा कवर उपलब्ध कराया गया है.

प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल को काफी नुकसान होता है। जिसकी वजह से किसानों को बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाली फसल के नुकसान की वजह से किसानों की आर्थिक स्थिति भी खराब हो जाती है। केंद्र सरकार द्वारा इस समस्या को दूर करने के लिए Pradhanmantri Fasal Bima Yojana का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से किसानों को किसी भी प्रकार की आपदा के कारण हुए फसल के नुकसान पर बीमा प्रदान किया जाता है। आपको इस लेख के माध्यम से Pradhanmantri fasal Bima Yojana online aavedan से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्रदान की जाएगी। इसके अलावा आप पीएम फसल बीमा योजना की पात्रता एवं महत्वपूर्ण दस्तावेजों से संबंधित जानकारी भी प्राप्त कर सकेंगे। यदि आप प्रधानमंत्री फसल बीमा स्कीम का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको हमारे इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा।

इस तरह से भी दी जा सकती है सूचना

कटारिया ने बताया कि फसल नुकसान की सूचना बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर या क्रॉप इंश्योरेंस ऐप के माध्यम से दी जा सकती है. इसके अलावा प्रभावित बीमित किसान जिलों में कार्यरत बीमा कंपनी, कृषि कार्यालय अथवा संबंधित बैंक को भी हानि प्रपत्र भरकर सूचना दे सकते हैं. राज्य में 10 जनवरी की शाम तक फसल नुकसान की 10041 सूचनाएं बीमा कंपनियों को प्राप्त हो चुकी हैं. अब तक खराबे की सूचना नहीं देने वाले किसान समय पर सूचना दर्ज कराएं ताकि Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के प्रावधानों के मुताबिक बीमा लाभ दिया जा सके.

सीएम ने दिए निर्देश

उधर, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश के विभिन्न जिलों में जारी शीतलहर, पाले एवं ओलावृष्टि के कारण फसलों को हुए नुकसान को देखते हुए विशेष गिरदावरी कराने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने गिरदावरी का काम जल्द से जल्द पूरा करने को कहा है. रबी सीजन 2021-22 में बोई गई फसलों में हुए नुकसान की रिपोर्ट आपदा प्रबंधन विभाग को भेजी जाएगी.

प्रदेश के विभिन्न जिलों में शीतलहर, पाले एवं ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान की अभी सरकार को प्रारंभिक सूचना मिली है. इसके आधार पर मुख्यमंत्री ने विशेष गिरदावरी कर जल्द से जल्द रिपोर्ट भिजवाने के निर्देश दिए हैं. रिपोर्ट के आधार पर मुआवजा दिया जाएगा.

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत देश के किसानों को किसी भी प्राकृतिक आपदा के कारण फसल में बर्बादी होने पर बीमा प्रदान किया जाएगा। इस योजना का कार्यान्वयन भारतीय कृषि बीमा कंपनी द्वारा किया जाता है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में केवल प्राकृतिक आपदा जैसे कि सूखा पड़ना, ओले पड़ना आदि ही शामिल है। यदि किसी और वजह से फसल का नुकसान होता है तो बिमे की राशि नहीं प्रदान की जाएगी। Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा 8800 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। इस योजना के अंतर्गत किसानों को खरीफ फसल का 2% और रवि फसल का 1.5% भुगतान बीमा कंपनी को करना होगा। जिस पर उन्हें बीमा प्रदान किया जाएगा। यदि आप भी इस योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो आपको आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आवेदन

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी सीजन के लिए कार्य आरंभ कर दिया गया है। लाभार्थियों द्वारा किसान बैंक में अपनी फसल के अनुसार प्रीमियम जमा करके इस योजना का लाभ प्राप्त किया जा सकता है। पात्र लाभार्थी इस योजना के अंतर्गत आवेदन कर सकते हैं। इस बात की जानकारी उपमंडल कृषि अधिकारी डॉ कृष्ण कुमार द्वारा प्रदान की गई है। राबी सीजन के लिए किसानों द्वारा मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर पंजीकरण किया जा सकता है। इस पोर्टल पर अपनी फसल का सटीक विवरण भरना होगा।

रबी सीजन 2021 22 के लिए प्रीमियम की राशि

फसल का नाम प्रति हेक्टेयर प्रीमियम की राशि
गेहूं Rs 11000.90
जौ Rs 661.62
सरसों Rs 681.09
चने Rs 505.95
सूरजमुखी Rs 661.62

प्रति हेक्टेयर बीमित राशि

फसल का नाम प्रति हेक्टेयर बीमित राशि
गेहूं Rs 67460
जौ Rs 44108
सरसों Rs 45405
चने Rs 33730
सूरजमुखी Rs 44108

Highlights PMFBY Scheme 2022

योजना का नाम प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना
विभाग मिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्चर एंड फार्मर्स वेलफेयर
लाभार्थी देश के किसान
ऑनलाइन आवेदन के आरंभ तिथि आरंभ है
ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि (खरीफ फसल के लिए)
उद्देश्य देश के किसानों को सशक्त बनाना
सहायता राशि ₹200000 तक का बीमा
योजना का प्रकार केंद्र सरकार की योजना
आधिकारिक वेबसाइट https://pmfby.gov.in

मध्य प्रदेश के 47 लाख किसानों ने किया आवेदन

मुख्यमंत्री फसल बीमा योजना के माध्यम से मध्य प्रदेश में इस वर्ष 47 लाख किसानों को लाभ पहुंचा है। प्रतिवर्ष 3 लाख किसान इस योजना से जुड़े रहे हैं। सबसे ज्यादा उज्जैन के किसानों ने इस योजना के अंतर्गत अपना बीमा कराया है। उज्जैन में बीमा कराने वाले किसानों की संख्या 4 लाख 29 हजार है एवम सिंगरौली में 855 किसानों ने बीमा करवाया है। सन 2016 में 25 लाख किसानों ने तथा सन 2018 में 35 लाख किसानों ने बीमा कराया है। इस वर्ष बीमा कराने वाले किसानों की संख्या पिछले सभी वर्षों से अधिक है। इस योजना के अंतर्गत बीमा कराने के लिए किसानों को केवल 2% प्रीमियम का भुगतान करना होता है एवं प्रीमियम की 98% राशि केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा वहन की जाती है। इसके अलावा मंदसौर, सीहोर, देवास, राजगढ़ के किसानों ने भी इस योजना के अंतर्गत अपना बीमा कराया है।

इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य 100% किसानों को फसल बीमा योजना का लाभ प्रदान करना है। अब तक लगभग 50% किसानों को इस योजना के अंतर्गत कवर कर लिया गया है। यदि किसान पहले से तय फसल को बदलना चाहता है तो किसान को अंतिम तारीख से 2 दिन पहले बदलाव के लिए अपनी बैंक को सूचना देनी होगी। वह किसान जिन के पास किसान क्रेडिट कार्ड नहीं है वह कस्टमर सर्विस सेंटर या बीमा कंपनी के प्रतिनिधि से अपनी फसल का बीमा करवा सकते हैं।

यूपी फसल बीमा योजना अपडेट

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ सभी किसानों तक पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा इस योजना के नियमों में कुछ बदलाव किए गए हैं। नए नियमों के अंतर्गत यदि किसानों को फसल पर किसी प्राकृतिक आपदा के कारण नुकसान होता है तो उस स्थिति में बीमा कंपनी द्वारा पहले से अधिक लाभ प्रदान किया जाएगा। पहले गेहूं काटने के बाद मड़ाई के दौरान यदि आग लग जाती थी या फिर बारिश हो जाती थी तो इस स्थिति में किसानों को नुकसान हो जाता था। इस स्तिथि में बीमे का लाभ अकेले किसान को नहीं मिलता था। यह लाभ सामूहिक होता था। इस प्रक्रिया के अंतर्गत कई बार ऐसा होता था कि उन किसानों को भी योजना का लाभ मिल जाता था जिनका कोई नुकसान नहीं हुआ है और कई नुकसान उठाने वाले किसान इस योजना का लाभ पूरी तरह से प्राप्त नही हो पाता था।

इस नई व्यवस्था के अंतर्गत अलग-अलग किसानों को पूरी फसल के नुकसान का लाभ प्रदान किया जाएगा। यह लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को अपने सभी दस्तावेजों के साथ किसी बैंक से संपर्क करना होगा। इसके पश्चात धान एवं गेहूं प्रति हेक्टेयर की निर्धारित रकम का किसान द्वारा डेढ़ से दो फीसदी प्रीमियम जमा किया जाएगा। जिसके पश्चात किसानों को इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

लखनऊ के लगभग 35000 किसानों ने किया बीमा

वह सभी किसान जिनके पास किसान क्रेडिट कार्ड है उनको दोबारा से Pradhanmantri Fasal Bima Yojana का लाभ प्राप्त करने के लिए बीमा करवाने की आवश्यकता नहीं है। फसल का नुकसान होने पर किसानों को टोल फ्री नंबर पर संपर्क करके सूचना देनी अनिवार्य है। टोल फ्री नंबर 18001030061 है। इसके अलावा किसानों द्वारा नुकसान की सूचना कृषि विभाग के अधिकारियों को भी दी जा सकती है। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में 35259 किसानों ने बीमा करवाया है जिसके लिए किसानों द्वारा 3.27 करोड़ रुपए के प्रीमियम का भुगतान किया गया है। लगभग 8411 किसानों ने इस योजना के अंतर्गत क्लेम किया है। जिसके लिए बीमा कंपनी द्वारा 5.78 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया है।

लखनऊ में कुल 2.29 लाख किसान है और 172714 किसान क्रेडिट कार्ड धारक है। अब तक इस योजना के अंतर्गत 90000 किसानों का पंजीकरण हो चुका है एवं 1.16 करोड़ किसानों का पंजीकरण होना बाकी है।

योजना से निकासी करने के लिए लिखित में दें बैंक को सूचना

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana देश के सभी किसानों के लिए स्वैच्छिक है। यदि कोई भी ऋण लेने वाला किसान इस योजना का लाभ नहीं प्राप्त करना चाहता तो उसे इस बात की जानकारी अपने बैंक को लिखित में देनी होगी। इसके पश्चात उस किसान को इस योजना से बाहर कर दिया जाएगा। यदि किसान द्वारा तय सीमा तक कोई भी जानकारी बैंकों को नहीं प्रदान की गई तो बैंक द्वारा किसान का पंजीकरण इस योजना के अंतर्गत कर दिया जाएगा। और बीमे के प्रीमियम की राशि काट ली जाएगी। वह सभी किसान जो इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं वह अपना आवेदन ग्राहक सेवा केंद्र या बीमा कंपनी के प्रतिनिधि के माध्यम से कर सकता है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना प्रीमियम राशि

फसल प्रीमियम राशि
धान 713.99 रुपए प्रति एकड़
मक्का 356.99 रुपए प्रति एकड़
बाजरा 335.99 रुपए प्रति एकड़
कपास 1732.50 रुपए प्रति एकड़
गेहूं 409.50 रुपए प्रति एकड़
जौ 267.75 रुपए प्रति एकड़
चना 204.75 रुपए प्रति एकड़
सरसो 275.63 रुपए प्रति एकड़
सूरजमुखी 267.75 रुपए प्रति एकड़

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली रकम

फसल बीमित राशि
धान 35699.78 रुपया प्रति एकड़
मक्का 17849.89 रुपया प्रति एकड़
बाजरा 16799.33 रुपया प्रति एकड़
कपास 34650.02 रुपया प्रति एकड़
गेहूं 27300.12 रुपया प्रति एकड़
जौ 17849.89 रुपया प्रति एकड़
चना 13650.06 रुपया प्रति एकड़
सरसो 18375.17 रुपया प्रति एकड़
सूरजमुखी 17849.89 रुपया प्रति एकड़

52 लाख किसानों को मिली दावे की राशि

इस Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत सन 2018–19 में 52,41,268 किसानों को फसल के क्लेम की राशि का भुगतान किया गया है। इस योजना के अंतर्गत प्रतिवर्ष लगभग 5.5 करोड़ किसान आवेदन करते हैं। अब तक सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत 90000 करोड़ रुपए तक के दावों का भुगतान किसानों के खाते में किया जा चुका है। यह भुगतान किसानों के खाते में सीधे डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से किया जाता है। यदि आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आप को Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत आवेदन करना होगा। आवेदन ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों माध्यमों से किया जा सकता है। सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत किसानों को आवेदन आरंभ होने की जानकारी देने के लिए रवि तथा खरीफ सीजन में विज्ञापन भी जारी किया जाता है।

सरकार द्वारा इस योजना का प्रचार भी किया जाता है। जिससे कि ज्यादा से ज्यादा किसानों तक इस योजना की जानकारी पहुंचाई जा सके और सभी पात्र किसान इस योजना का लाभ उठा सकें। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के माध्यम से किसानों को फसल खराब होने के कारण आर्थिक नुकसान से बचाया जा सकता है।

90000 करोड रूपए के दावों का भुगतान

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत किसानों को फसल पर प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान पर आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। यह योजना 13 जनवरी 2016 को आरंभ की गई थी। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत बाढ़, आंधी, तेज बारिश आदि के चलते फसल को हुए नुकसान पर किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इस योजना को भारतीय कृषि बीमा कंपनी द्वारा संचालित किया जाता है। Fasal Bima Yojana के अंतर्गत एक वर्ष में लगभग 5.5 करोड़ किसानों के आवेदन आते हैं और इस योजना में अब तक 90000 करोड रुपए के दावों का भुगतान किया जा चुका है। यह दावे आधार सीडिंग के माध्यम से निपटाए जाते हैं। कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत 7000000 किसानों को 8741.30 करोड़ रुपए प्रदान किए गए।

  • इस Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत अतिरिक्त प्रीमियम की राशि राज्य एवं भारत सरकार द्वारा प्रदान किया जाता है और पूर्वोत्तर राज्यों में 90 फ़ीसदी प्रीमियम की राशि भारत सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत औसदन बीमित राशि ₹40700 कर दी गई है। यह राशि पहले ₹15,100 प्रति हेक्टेयर थी।
  • इस Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत बुवाई से पहले से लेकर कटाई के बाद तक की पूरा समय शामिल किया गया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत रोकी गई बुवाई और फसल के बीच होने वाली प्राकृतिक आपदाओं से होने वाला नुकसान भी शामिल किया गया है। इस योजना के अंतर्गत समय-समय पर सुधार किए गए हैं। जिससे कि इसे फ्लैक्सिबल बनाया जा सके।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का बजट

फसल को सुरक्षा प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा Pradhanmantri Fasal Bima Yojana आरंभ की गई थी। इस योजना के अंतर्गत बुवाई से पहले से लेकर कटाई के बाद तक का समय कवर किया जाता है। इस योजना के अंतर्गत रोकी गई बुवाई और मध्य मौसम प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान को भी कवर किया गया है। फसल का नुकसान होने पर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इस योजना को 13 जनवरी 2016 को आरंभ किया गया था। इस योजना के अंतर्गत वित्त वर्ष 2021–22 के लिए 16000 करोड रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। यह बजट पिछले साल के बजट के तुलना में 305 करोड रुपए ज्यादा है। इस योजना के माध्यम से कृषि क्षेत्र का विकास होगा।

  • विश्व स्तर पर भागीदारी के मामले में Pradhanmantri Fasal Bima Yojana सबसे बड़ी फसल बीमा योजना है तथा प्रीमियम के मामले में तीसरी सबसे बड़ी योजना है। प्रतिवर्ष लगभग 5.5 करोड़ किसान इस योजना के अंतर्गत आवेदन करते हैं। पिछले 5 वर्षों का कार्यान्वयन देखते हुए सरकार ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को रीलॉन्च करने का निर्णय लिया था। इस योजना को रीलॉन्च करने के बाद इसमें कई संशोधन भी किए गए हैं।
  • इस योजना के अंतर्गत फसल नुकसान की रिपोर्ट करना बेहद आसान है। यह रिपोर्ट ऐप के माध्यम से, कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से या फिर निकटतम कृषि अधिकारी के माध्यम से फसल नुकसान के 72 घंटे के भीतर किया जा सकती है। दावे की राशि किसान के खाते में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से पहुंचाई जाएगी। इस योजना के अंतर्गत नामांकित कुल किसानों में से 84% छोटे और सीमांत किसान हैं।

पीएम फसल बीमा योजना रबी फसल बीमा प्रक्रिया शुरू

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत रबी फसल बीमा प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए लाभार्थी किसानों के बैंक अकाउंट से प्रीमियम की राशि काटी जाएगी। सभी बैंकों को सरकार द्वारा प्रीमियम की राशि काटने के निर्देश दे दिए गए हैं। 31 दिसंबर 2020 से पहले पहले प्रीमियम की राशि किसानों के अकाउंट से काट ली जाएगी और फिर इसकी जानकारी 15 जनवरी 2021 तक पोर्टल पर दर्ज कर दी जाएगी। एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी सभी मध्यप्रदेश के बैंकों के नोडल कार्यालय को प्रदान कर दी है। इस योजना के अंतर्गत किसानों को स्केल ऑफ फाइनेंस का 1.5 फ़ीसदी प्रीमियम के रूप में देना होगा।

  • सभी ऋणी किसानों का प्रीमियम बैंक द्वारा स्वत ही काट लिया जाएगा। अब इस योजना के अंतर्गत ऋणी किसानों को सहमति पत्र देने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी और वह सभी ऋणी किसान जो इस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त नहीं करना चाहते उन्हें बैंक में असहमति पत्र जमा करना होगा।
  • इसी के साथ सभी अऋणी किसानों को फसल बीमा योजना का लाभ उठाने के लिए सहमति पत्र देना अनिवार्य होगा तभी उनकी फसल का बीमा हो पाएगा। इस योजना का लाभ उठाने के लिए सभी किसानों को किसी भी राज्य स्तरीय सहकारी बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, वाणिज्यिक बैंक, वित्तीय संस्था से संपर्क करना होगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का उद्देश्य

भारत में अधिकतर खेती करने वाले किसानो को फसलों में होने वाले नुकसान पर सरकार मदद करेगी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022 किसानो को खेती में रूचि बनाये रखना तथा स्थायी आमदनी उपलब्ध कराना इस योजना में किसानो की फसलों में होने वाले नुकसान व चिंताओं से मुक्त कराना है और लगातार खेती करने के लिए किसानो को बढ़ाबा देना है और भारत  को विकसित तथा प्रगतिशील बनाना है

नामांकित किसानों के आवेदनों की संख्या

वर्ष नामांकित किसानों की संख्या
2018-19 577.7 lakh
2019-20 612.3 lakh
2020-21 613.6 lakh

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

  • PM Fasal Bima Yojana को देश के किसानों को किसी प्राकृतिक आपदा के कारण होने वाले फसल के नुकसान पर इंश्योरेंस कवर प्रदान करने के लिए आरंभ किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से अब तक लाखों किसानों को लाभ पहुंचा है।
  • पहले 3 वर्षों में किसानों द्वारा लगभग 13000 करोड रुपए का प्रीमियम जमा किया गया है।
  • जिसके बदले उनको 60000 करोड रुपए तक का इंश्योरेंस क्लेम प्राप्त हुआ है।
  • सरकार द्वारा सभी पात्र किसानों तक इस योजना का लाभ पहुंचाने का प्रयास किया जाता है। जिस के लिए सरकार द्वारा प्रचार किया जाता है।
  • इस योजना को 27 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित किया जाता है।
  • इस योजना के अंतर्गत क्लेम रेश्यो 88.3 प्रतिशत है।
  • सरकार द्वारा समय-समय पर इस योजना की समीक्षा की जाती है एवं सभी हितग्राही को से संवाद किया जाता है।
  • इस योजना में फरवरी 2021 में कुछ संशोधन भी किए गए हैं। जिससे कि सभी किसानों को और बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा सके।
  • संशोधित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अनुसार वह राज्य जिनमें स्टेट सब्सिडी की पेमेंट लंबे समय तक विलंब है वह इस योजना में भाग नहीं ले पाएंगे।
  • बीमा कंपनी द्वारा 0.5% प्राप्त हुई प्रीमियम की राशि इंफॉर्मेशन, एजुकेशन एंड कम्युनिकेशन एक्टिविटी के लिए खर्च की जाती है।
  • इस योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए एक सेंट्रल एडवाइजरी कमेटी का भी गठन किया गया है।
  • Pradhanmantri Fasal Bima Yojana को आधार एक्ट 2016 के अंतर्गत संचालित किया जाता है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी के पास आधार नंबर होना अनिवार्य है।
  • इस योजना को संचालित करने का मुख्य उद्देश्य सभी किसानों को खेती करने के लिए बिना किसी आपदा की चिंता किए प्रोत्साहित करना है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अपडेट

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान पर इंश्योरेंस कवर प्रदान किया जाता है। अब सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत वाइल्ड लाइफ डैमेज को कवर करने का भी फैसला लिया गया है। अब प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत यदि फसल को जंगली जानवरों के कारण नुकसान पहुंचता है तो किसान को फसल पर हुए नुकसान पर कवर प्रदान किया जाएगा। यह सुविधा एक ऐडऑन कवरेज के तौर पर प्रदान की जाएगी। यह एड ऑन कवरेज किसानों के लिए वैकल्पिक होगी।

  • Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत यदि वाइल्ड लाइफ कवर किसानों को लेना है तो उसके लिए प्रीमियम का भुगतान किसानों को ही करना होगा। हालांकि राज्य सरकार इस कवरेज पर अतिरिक्त सब्सिडी प्रदान करने पर विचार कर रही है।
  • बीमा कंपनी तथा MoEFCC के परामर्श से सरकार द्वारा बोलियो के मूल्यांकन के लिए विस्तृत प्रोटोकॉल और प्रक्रिया तैयार कर ली गई है।
  •  वन अधिकारियों द्वारा यह भी बताया गया है कि राज्य पहले से ही क्रॉप डैमेज कंपनसेशन किसानों को प्रदान करती थी। अब विभिन्न राज्यों द्वारा प्राप्त किए गए सुझाव के अनुसार जंगली जानवरों से हुए नुकसान को भी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के दिशा निर्देशों में शामिल कर लिया गया है। महाराष्ट्र के फसल क्षति को रोकने के लिए स्थापित किए गए एक पैनल के द्वारा भी इस कदम की सिफारिश की गई है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना नवंबर अपडेट

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं Pradhanmantri Fasal Bima Yojana किसानों की फसल को कुदरती आपदा से होने वाले नुकसान की भरपाई करने के लिए आरंभ की गई है। इस समय देश में कहीं भारी बारिश हो रही है तो कहीं सूखा पड़ा है। जिससे की फसल को काफी भारी नुकसान पहुंच रहा है। यदि फसल को कोई नुकसान होता है तो 72 घंटे में शिकायत स्थानीय कृषि कार्यालय किसान हेल्पलाइन नंबर पर दर्ज करानी होगी। इसके अलावा यह शिकायत क्रॉप इंश्योरेंस ऐप पर भी दर्ज कराई जा सकती है। यदि आपको इस बारे में अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप हेल्पलाइन नंबर वन 1800-180-1551 पर संपर्क कर सकते हैं।

Crops & Premium In PMFBY Scheme 2022

क्र0स0 फसल किसान द्वारा देय बीमा राशि का प्रतिशत
1 खरीफ 2.0%
2 रबी 1.5%
3 वार्षिक वाणिज्यिक एवं बागवानी फसले 5%

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत प्रीमियम राशि

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को प्रीमियम की राशि का भुगतान करना होता है। यह प्रीमियम की राशि अन्य फसल बीमा योजनाओं की अपेक्षा में प्रधानमंत्री बीमा योजना में बहुत कम रखी गई है। प्रीमियम की राशि कुछ इस प्रकार है।

  • खरीफ फसल के लिए: बीमित राशि का 2%
  • रबी फसल के लिए: बीमित राशि का 1.5%
  • सालाना वाणिज्यिक और बागवानी की फसल के लिए: बीमित राशि का 5%

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना गतिविधि कैलेंडर

गतिविधि कैलेंडर खरीफ रबी
अनिवार्य आधार पर लोनी किसानों के लिए स्वीकृत ऋण। अप्रैल से जुलाई तक अक्टूबर से दिसम्बर तक
किसानों के प्रस्तावों की प्राप्ति के लिए कट ऑफ़ तारीख (ऋणदाता और गैर-ऋणदाता)। 31 जुलाई 31 दिसम्बर
उपज डेेटा प्राप्त करने के लिये कट आफ तारीख अतिंम फसल के एक महीने के भीतर अतिंम फसल के एक महीने के भीतर

Revised प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

प्रकार वर्ष 2016 के लिये वर्ष 2019 के लिये
किसान द्वारा देय प्रीमियम धनराशि रू 900 रू 600
शतप्रतिशत नुकसान की दशा मे किसान को प्राप्त धन राशि रू 15000 रू 30000

फसल बीमा योजना में अब तक जमा किया गया प्रीमियम

पिछले तीन सालों में इस योजना में 13,000 करोड़ रुपये का प्रीमियम जमा हुआ है, लेकिन जब प्राकृतिक आपदा आई, तो किसानों को प्रीमियम से साढ़े 4 गुनी राशि करीब 64,000 करोड़ रुपये मुआवजा के रूप में प्राप्त हुआ।’ तोमर ने बताया कि प्रीमियम की हिस्सेदारी में कोई बदलाव नहीं हुआ है। यह खरीफ फसल के लिए 2 फीसद, रबी फसल के लिए 1.5 फीसद और व्यावसायिक व बागवानी फसलों के लिए अधिकतम 5 फीसद है।लॉकडाउन के दौरान इस योजना के तहत 8,090 करोड़ रुपये से अधिक के दावों का भुगतान किया गया है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की विशेषताएं

  • Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के माध्यम से प्राकृतिक कारणों की वजह से फसल को होने वाले नुकसान पर आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।
  • इस योजना के माध्यम से किसानों की आय में स्थिरता आती है एवं उन्हें नवीन प्रथाओं को अपनाने में प्रोत्साहन प्राप्त होता है।
  • प्रमुख फसलों के अधिसूचित बीमा इकाई को कम कर दिया गया है।
  • Pradhanmantri Fasal Bima Yojana को actuarial/bidded प्रीमियम रेट पर संचालित किया जा रहा है।
  • इस Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत छोटे किसानों को अधिकतम 2% खरीफ पर, 1.5% राबी एवं तिलहन फसलों पर एवं 5% वाणिज्य या बागवानी फसलों पर प्रीमियम का भुगतान करना होगा। इसके अलावा यदि किसान को अधिक प्रीमियम देना पड़े तो उसकी 50% की राशि राज्य सरकार एवं 50% की राशि केंद्र सरकार द्वारा वाहन की जाएगी। पूर्वोत्तर राज्यों के मामले में 90% की राशि केंद्र सरकार एवं 10% की राशि राज्य सरकार द्वारा वाहन की जाएगी।
  • किसान द्वारा देय प्रीमियम एवं बीमा शुल्क की दर के बीच का अंतर सब्सिडी के रूप में प्रदान किया जाएगा।
  • ऋणी एवं गैर ऋण किसानों को सामान्य बीमा राशि का भुगतान करना होगा।
  • सरकार द्वारा प्रीमियम पर कैपिंग के प्रावधान को हटा दिया गया है जिसके कारण बीमा राशि में कमी आई है।
  • इस योजना के अंतर्गत रोकी गई बुवाई के लिए बीमित राशि के 25% तक के दावे का प्रावधान है।
  • यदि बीमा इकाई में फसल की क्षति 50% से अधिक बताई जाती है तो मध्यम मौसम प्रतिकूलता के लिए बीमा राशि का 25% तक ऑन अकाउंट भुगतान किया जाएगा।
  • शेष क्लेम की राशि फसल कटाई प्रयोगों के आंकड़ों के माध्यम से प्रदान की जाएगी।
  • दावों को शीघ्र निपटाने के लिए फसल के नुकसान का आकलन करने के लिए रिमोट सेंसिंग तकनीक, स्मार्टफोन और ड्रोन का उपयोग किया जाएगा।
  • फसल बीमा पोर्टल को भी इस योजना के बेहतर कार्यान्वयन के लिए विकसित किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से दावे की राशि सीधे किसान के खाते में जमा की जाती है।
  • सरकार द्वारा सभी हिट धारकों के बीच योजना के बारे में जागरूकता फैलाने का प्रयास किया जाता है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लाभ

  • Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत देश के किसानो की फसलों में होने वाले नुकसान का बीमा दिया जायेगा।
  • यदि किसी किसान की फसल प्राकर्तिक आपदा के कारण नष्ट हुई है तो उन्हें इस योजना का लाभ प्रदान किया जायेगा।
  • यदि किसी किसान की फसल किसी मानव के कारण नष्ट हुई है तो उन्हें इस योजना के तहत कोई लाभ प्राप्त नहीं होगा।
  • पॉलिसी के अंतर्गत किसानो को खरीफ फसल 2% के लिए रवि की फसल के लिए 1. 5% का भुगतान करते है जिसके अनुसार प्राकृतिक नुकसान जैसे -सूखा बाढ़ ओले के कारण फसल को बहुत हानि होने पर सरकार द्वारा मदद की जाती है।

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की पात्रता

  • इस योजना के तहत देश के सभी किसान पात्र हो सकते है।
  • इस योजना के तहत आप अपनी ज़मीन पर की गयी खेती का बीमा करवा सकते है साथ ही आप किसी उधार की पर ली गयी ज़मीन पर की गयी खेती का भी बीमा करवा सकते है।
  • देश क उन किसानो का इस योजना के तहत पात्र माना जायेगा ।जो पहले किसी बीमा योजना का लाभ नहीं ले रहे हो।

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के ज़रूरी दस्तावेज़

  • किसान का आई डी कार्ड
  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • बैंक खाता
  • किसान का एड्रेस प्रूफ (जैसे ड्राइविंग लाइसेंस ,पासपोट, वोटर   ID कार्ड)
  • अगर खेत किराये पर लेकर खेती की गयी है तो खेत के मालिक के साथ इकरार की फोटो कॉपी
  • खेत का खाता नंबर /खसरा नंबर के पेपर
  • आवेदक का फोटो
  • किसान द्वारा फसल की वुआई शुरू किए हुए दिन की तारीख

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में आवेदन करने के लिए कुछ जरूरी तिथियां

यदि आप Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो खरीफ फसल के लिए अंतिम तिथि 31 जुलाई है तथा रबी फसल के लिए अंतिम तिथि 31 दिसंबर है। इस योजना की अंतिम तिथि सीएससी केंद्र, पीएमएफबीवाई पोर्टल, इंश्योरेंस कंपनी या फिर कृषि अधिकारी से भी पूछी जा सकती हैं।

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana 2022 के लिए ऑनलाइन आवेदन ?

  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना फॉर्म ऑनलाइन भरने की लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करना होगा |
  • फसल बीमा योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आप को ऑफिशियल वेबसाइट पर अपना एक एकाउंट बनाना होगा
  • अकाउंट बनाने की लिए रजिस्ट्रेंशन पर क्लिक करना होगा ओर यहां पर पूछी गई सभी जानकारी को सही सही करना होगा
  • सभी जानकारी भरने की बाद सबमिट बटन पर क्लिक कर दे और उसके बाद आप का अकाउंट ऑफिशियल वेबसाइट बन जायगा
  • अकाउंट बनने की बाद अपने अकाउंट में लॉग इन करके आपको फसल बीमा योजना की लिए फॉर्म भरना होगा
  • फसल बीमा योजना का फॉर्म सही सही भरने के बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा जिसके बाद आपको अपनी स्क्रीन पर सक्सेसफुल का मैसेज दिखाई देगा

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत ऑफलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

यदि आप Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत ऑफलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो आपको नियमित प्रक्रिया को फॉलो करना होगा।

  • सर्वप्रथम आपको अपने नजदीकी बीमा कंपनी जाना होगा।
  • अब आपको कृषि विभाग से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कि आपका नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करना होगा।
  • अब आपको सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को आवेदन पत्र से अटैच करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको यह आवेदन पत्र कृषि विभाग में जमा करना होगा।
  • अब आपको प्रीमियम की राशि का भुगतान करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको एक रेफरेंस नंबर दिया जाएगा।
  • आपको इस रेफरेंस नंबर को संभाल कर रखना होगा।
  • इस नंबर के माध्यम से आप अपनी आवेदन की स्थिति की जांच कर सकते हैं।

पोर्टल पर साइन इन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको साइन इन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा जिसमें आपको अपना मोबाइल नंबर, पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • अब आपको लॉगइन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप पोर्टल पर लॉगिन कर पाएंगे।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ प्राप्त करने की प्रक्रिया

यदि किसी प्राकृतिक आपदा जैसे कि तूफान, बारिश, भूकंप आदि के कारण आप की फसल को नुकसान पहुंचा है और आप Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के लाभार्थी हैं तो आप नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करके इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

  • सर्वप्रथम आपको अपने एग्रीकल्चर ऑफिसर या फिर इंश्योरेंस कंपनी के पास जाना होगा।
  • आपको एग्रीकल्चरल ऑफिसर या इंश्योरेंस कंपनी को नुकसान होने के 72 घंटे के अंदर अंदर नुकसान की जानकारी प्रदान करनी होगी।
  • इसके पश्चात आपको नुकसान की तिथि एवं समय की जानकारी भी प्रदान करनी होगी।
  • आपको फसल के नुकसान की तिथि तथा टाइम के साथ साथ फसल की फोटो भी जमा करनी होगी।
  • यह पूरी प्रक्रिया आप क्रॉप इंश्योरेंस ऐप के माध्यम से भी कर सकते हैं।
  • अन्य जानकारी के लिए आप फार्मर कॉल सेंटर पर संपर्क कर सकते हैं जो कि 18001801551 है।

फसल बीमा योजना आवेदन की स्थिति कैसे देखे ?

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • आपको इस होम पेज पर Application Status का ऑप्शन दिखाई देगा आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आपको अपना Reciept Number भरना होगा फिर कैप्चा कोड डालना होगा इसके बाद Search Status के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने आपके आवेदन की स्थिति आ जाएगी।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

Pradhanmantri Fasal Bima Yojana का सरकार द्वारा एंड्रॉयड ऐप लांच कर दिया गया है। जो कि आधिकारिक वेबसाइट या फिर गूगल प्ले स्टोर के माध्यम से डाउनलोड किया जा सकता है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एप के माध्यम से किसान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं, अपना एप्लीकेशन स्टेटस चेक कर सकते हैं, अपने इंश्योरेंस प्रीमियम की राशि कैलकुलेट कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें आधिकारिक वेबसाइट पर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। Pradhanmantri Fasal Bima Yojana App का मुख्य उद्देश्य किसानों को प्रीमियम तथा insured sum की राशि बताना है। यह ऐप किसान का डाटा ऑटो बैकअप कर लेता है। आप नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो कर कर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं।

  • सर्वप्रथम आपको अपने मोबाइल फोन में गूगल प्ले स्टोर खोलना होगा।
  • अब आपको सर्च बॉक्स में प्रधानमंत्री फसल बीमा ऐप एंटर करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक सूची खुल कर आएगी जिसमें से आप को सबसे ऊपर वाले ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको इंस्टॉल के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार प्रधानमंत्री फसल बीमा आपके मोबाइल फोन में डाउनलोड हो जाएगा।
  • अप किसान ऐप में अपना नाम तथा फोन नंबर डालकर पंजीकरण कर सकते हैं और क्रॉप इंश्योरेंस की डिटेल देख सकते हैं।

फसल बीमा योजना लाभार्थी सूची देखने की प्रक्रिया

आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से

  • सर्वप्रथम आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • होम पेज पर आपको लाभार्थी सूची के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको अपने राज्य का चयन करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको अपने जिले का चयन करना होगा।
  • अब आपको अपने ब्लॉक का चयन करना होगा।
  • जैसे ही आप ब्लॉक का चयन करेंगे आपके सामने लाभार्थी सूची खुलकर आ जाएगी।
  • आप इस Pradhanmantri Fasal Bima Yojana सूची में अपना नाम देख सकते हैं।

बैंक के माध्यम से

  • सर्वप्रथम आपको अपने नजदीकी बैंक जाना होगा।
  • अब आपको संबंधित अधिकारी को अपना एप्लीकेशन नंबर देना होगा।
  • इसके पश्चात आपको बैंक अधिकारी द्वारा मांगे गए दस्तावेजों को देना होगा।
  • बैंक अधिकारी आपको लाभार्थी सूची से संबंधित जानकारी प्रदान कर देगा।
  • इस प्रकार आप Pradhanmantri Fasal Bima Yojana लाभार्थी सूची में अपना नाम देख पाएंगे।

इन्शुरन्स प्रीमियम कैलकुलेट कैसे करे ?

  • सबसे पहले आवेदक को Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • इस होम पेज पर आपको Insurance Calculator का ऑप्शन दिखाई देगा। आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आपको पूछी गयी कुछ जानकारी जैसे फसल का चयन , साल ,स्कीम , स्टेट , डिस्ट्रिक्ट , क्रॉप आदि का चयन करना होगा।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको Calculate के बटन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आप प्रीमियम को कैलकुलेट कर सकते है।  

इंश्योरेंस कंपनी डायरेक्ट देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको इंश्योरेंस कंपनी डायरेक्टरी के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आप इंश्योरेंस कंपनी डायरेक्टरी देख सकते हैं।

शिकायत दर्ज कैसे करे?

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा। इस होम पेज पर आपको Technical Grievance क ऑप्शन दिखाई देगा।
  • आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा। इस पेज पर आपको नाम, मोबाइल नंबर , ईमेल आईडी , और कमैंट्स को दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा। इस तरह आपको शिकायत दर्ज हो जायेगा।

स्टेट वाइज फार्मर डिटेल जानने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • होम पेज पर आपको रिपोर्ट के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको स्टेट वाइज फार्मर डिटेल्स के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इस ऑप्शन पर क्लिक करेंगे आपके सामने फार्मर डिटेल्स लिस्ट खुलकर आ जाएगी। आप इसमें से जिस भी साल की फार्मर डिटेल्स चेक करना चाहते हैं आप उसे डाउनलोड करके चेक कर सकते हैं।

Note- जो किसान Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अन्तर्गत आवेदन करना चाहते है वह सरकारी दफ्तरो जैसे बैंक बैंक/PACS/ जनसेवा केंद्र  बीमा एजेन्ट या सीधे बीमा कम्पनी से भी आवेदन कर सकता है और इस वर्ष खरीफ की फसल की बीमा की अंतिम तिथि दिनांक 31 जुलाई 2019 है। इस योजना से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए आप आधिकारिक वेबसाइट पर भी जा सकते हैं

फीडबैक की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • इस होम पेज पर आपको नीचे फीडबैक का विकल्प दिखाई देगा आपको इस विकल्प पर क्लिक करना होगा। विकल्प पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आपको एक फॉर्म दिखाई देगा। आपको इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे नाम ,मोबाइल नंबर ,ईमेल आईडी कमैंट्स आदि को भरना होगा।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको कैप्चा कोड डालकर सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।

बीमा का क्लेम करते समय रखना होगा इन बातों का ध्यान

यदि आपने Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत आवेदन किया है और आप बीमा का क्लेम करना चाहते हैं तो आपको बीमा कंपनी को छोटे पैमाने पर प्राकृतिक आपदाओं की जानकारी प्रदान करनी होगी। यह जानकारी आपको समय से प्रदान करनी होगी। यदि आपने आपदा की जानकारी बीमा कंपनी को देने में देरी की तो आपको क्लेम का भुगतान नहीं किया जाएगा। छोटे पैमाने पर प्राकृतिक आपदाओं में ओलावृष्टि, भू-स्खलन, अतिवृष्टि, बादल फटने, प्राकृतिक आग लगने तथा बेमौसम वर्षा या सामान्य से अधिक वर्षा होने आदि शामिल है। हाल ही में 9,30,000 किसानों के बीमा क्लेम रद्द कर दिए गए हैं। क्योंकि उन्होंने समय से बीमा कंपनी को प्राकृतिक आपदा की जानकारी नहीं प्रदान की थी।

यदि किसी बड़े पैमाने पर प्राकृतिक आपदा आती है तो इस स्थिति में आपको बीमा कंपनी को प्राकृतिक आपदा की जानकारी देने की जरूरत नहीं है। यदि आप क्लेम प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आप बीमा कंपनी को सही समय पर सूचित कर दें नहीं तो प्रीमियम का भुगतान करने के बाद भी आपको क्लेम नहीं प्राप्त होगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत क्लेम करने की प्रक्रिया

यदि आप की फसल को नुकसान पहुंचा है तो आपको नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो कर कर बीमा राशि का क्लेम कर सकते हैं।

  • सर्वप्रथम किसान को फसल के पहुंचे नुकसान की जानकारी इंश्योरेंस कंपनी, बैंक या फिर राज्य सरकार अधिकारी को देनी होगी।
  • यह जानकारी किसान को टोल फ्री नंबर पर संपर्क करके नुकसान होने के 72 घंटे के भीतर देनी होगी।
  • यदि आपने इंश्योरेंस कंपनी के अलावा किसी और को नुकसान की जानकारी दी है तो आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि वह जल्द से जल्द यह जानकारी इंश्योरेंस कंपनी तक पहुंचाएं।
  • जैसे ही इंश्योरेंस कंपनी तक जानकारी पहुंचेगी इंश्योरेंस कंपनी 72 घंटे के भीतर नुकसान निर्धारणकरता नियुक्त करेगी।
  • अगले 10 दिन के भीतर आप ही फसल को पहुंचे नुकसान का आकलन नुकसान निर्धारितकरता करेगा।
  • यह सारी प्रक्रिया सफलतापूर्वक हो जाने पर 15 दिन के अंदर अंदर बीमा की राशि आपके खाते में पहुंचा दी जाएगी।

टेंडर डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको डाक्यूमेंट्स के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको टेंडर के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इस लिंक पर क्लिक करेंगे आपके सामने टेंडर की सूची खुलकर आ जाएगी।
  • आप अपनी आवश्यकता अनुसार टेंडर की सूची के सामने दी गई डाउनलोड की लिंक पर क्लिक कर सकते हैं।
  • टेंडर आपकी डिवाइस में डाउनलोड हो जाएगा।

गाइडलाइन डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको डॉक्यूमेंट के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको गाइडलाइंस के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इस लिंक पर क्लिक करेंगे आपके सामने गाइडलाइंस की पूरी सूची खुलकर आ जाएगी।
  • आपको अपनी आवश्यकता अनुसार गाइड लाइन के सामने दी गई डाउनलोड की लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार गाइडलाइंस आपकी डिवाइस में डाउनलोड हो जाएंगी।

PMFBY पोर्टल डाटा डैशबोर्ड देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको डैशबोर्ड के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको पीएमएफबीवाई पोर्टल डाटा डैशबोर्ड के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इस लिंक पर क्लिक करेंगे आपके सामने डैशबोर्ड खुलकर आ जाएगा।

बैंक ब्रांच डायरेक्टरी देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको बैंक ब्रांच डायरेक्टरी के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इस लिंक पर क्लिक करेंगे आपके सामने बैंक ब्रांच डायरेक्टरी खुलकर आ जाएगी।
  • आपको सर्च बॉक्स में बैंक नेम दर्ज करना होगा।
  • संबंधित बैंक की जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

सीएससी लॉगिन करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको सीएससी के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको सीएससी लॉगइन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इस लिंक पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक नया पेज खोलकर आएगा जिसमें आपको अपना यूजरनेम तथा पासवर्ड दर्ज करना होगा।
  • अब आपको साइन इन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप सीएससी लॉगइन कर पाएंगे।

सीएससी लोकेट करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको सीएससी के टैब पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको सीएससी लोकेटर के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप इस लिंक पर क्लिक करेंगे आपके सामने नया पेज खुल कर आएगा।
  • यदि आप आईफोन यूजर हैं तो आपको ऐप स्टोर के बटन पर क्लिक करना होगा और यदि आप एंड्रॉयड यूजर है
  • तो आपको गूगल प्ले के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको इंस्टॉल के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • सीएससी लोकेटर आपके डिवाइस में इंस्टॉल हो जाएगा।
  • इंस्टॉल होने के बाद आप इस ऐप के माध्यम से नजदीकी सीएससी केंद्र लोकेट कर सकते हैं।

कवरेज डाटा देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको डैशबोर्ड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको कवरेज डाटा के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आप कवरेज डाटा देख सकते हैं।

क्रॉप लॉस रिपोर्ट करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको रिपोर्ट क्रॉप लॉस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको डाउनलोड ऐप टू रिपोर्ट क्रॉप लॉस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको इंस्टॉल के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब ऐप आपके डिवाइस में डाउनलोड हो जाएगा।
  • इसके पश्चात आप इस ऐप को खोल कर क्रॉप लॉस रिपोर्ट कर सकते हैं।

सर्कुलर डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Pradhanmantri Fasal Bima Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको सर्कुलर के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप सर्कुलर के विकल्प पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपनी आवश्यकतानुसार सर्कुलर पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने पीडीएफ फॉर्मेट में सर्कुलर खुलकर आ जाएगा।
  • इसके पश्चात आपको डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप सर्कुलर डाउनलोड कर पाएंगे।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आने वाली बीमा कंपनियों के टोल फ्री नंबर

इन्शुरेंस कंपनी का नाम टोल फ्री नंबर
एग्रिकल्चर इन्शुरेंस कंपनी 1800-116-515
बजाज आलियंज इन्शुरेंस कंपनी 1800-209-5959
भारती एक्सा जनरल इन्शुरेंस कंपनी 1800-103-7712
चोलामंडलम MS जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-200-5544
फ्युचर जनराली इंडिया इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-266-4141
एचडीएफ़सी एर्गों जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-266-0700
आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-266-9725
इफको टोकियो जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-103-5490
नेशनल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-200-7710
न्यू इंडिया एशुरेंस कंपनी 1800-209-1415
ओरिएंटल इन्शुरेंस 1800-118-485
रिलायंस जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800 102 4088 / 1800 300 24088
रॉयल सुंदरम जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-568-9999
एसबीआई जनरल इन्शुरेंस 1800-123-2310
श्रीराम जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800 3000 0000 / 1800 103 3009
टाटा एआईजी जनरल इन्शुरेंस कंपनी लिमिटेड 1800-209-3536
यूनाइटेड इंडिया इन्शुरेंस कंपनी 1800-4253-3333
यूनिवर्सल जनरल इन्शुरेंस कंपनी 1800-200-5142  

प्रधानमंत्री हेल्पलाइन नंबर

इस Pradhanmantri Fasal Bima Yojana के अंतर्गत देश के किसानो के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है अगर किसी किसान को इस योजना के जुडी कोई परेशानी है है तो वह इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके अपनी परेशानी का निवारण प्राप्त कर सकते है और इस योजना से जुडी अधिक जानकारी प्राप्त कर सकता है।

योजना से जुडी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए फ़ोन नंबर – 01123382012

हेल्पलाइन नंबर – 01123381092

Important Download

Previous articleSEBI Grade A Recruitment 2022 SEBI Grade A Result 2022 Phase 1 (Out)
Next articlePM Modi Yojana 2022: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी योजना | सरकारी योजना सूची