REET Paper Leak Case दोबारा होगी रीट परीक्षा

REET Paper Leak Case 7 February 2022 Latest Update: राजस्थान में रीट परीक्षा धांधली को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Cm Ashok Gehlot) ने चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर राज्य सरकार ने बड़ा फैसला किया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने साफ कर दिया कि रीट पेपर लेवल 2 निरस्त किया जाएगा. नए सिरे से रीट पेपर लेवल 2 की परीक्षा आयोजित होगी. उन्होंने कहा कि दो चरण में परीक्षा होगी. पहली परीक्षा एलिजिबिलिटी के आधार पर होगी और फिर भर्ती परीक्षा होगी. उन्होंने कहा कि अब रीट में लेवल 1 और लेवल 2 को मिलाकर अब 62 हजार पदों पर भर्ती होगी. 

REET Again in 2022

कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार की उपलब्धियां गिनाई. प्रदेश की जनता हमारे कामों से खुश है. उन्होंने कहा कि तीन साल का हमारा शासन बेमिसाल रहा है. इस दौरान रीट पेपर लीक मामले पर भी मुख्यमंत्री ने चुप्पी तोड़ी. सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि रीट में 25 लाख अभ्यर्थियों ने हिस्सा लिया है. परीक्षा को लेकर तमाम तैयारियां की है. पेपर लीक(REET Paper Leak Case) की खबर पर SOG को तुरंत मामला सौंपा. गहलोत ने कहा कि देशभर में अब कई पेपर लीक(REET Paper Leak Case) के मामले सामने आ रहे हैं. देशभर में पेपर लीक गैंग सक्रिय है. केंद्र और राज्यों को मिलकर इसपर काम करना होगा. 

Also Check:

विस्तार

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने सोमवार को राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) 2021 के लेवल 2 को रद्द करने की घोषणा कर दी है। सीएम गहलोत ने बताया कि इस परीक्षा को दोबारा से आयोजित कराया जाएगा। दरअसल रीट पेपर लीक(REET Paper Leak Case) को लेकर गहलोत सरकार के खिलाफ विपक्ष और छात्रों का विरोध बढ़ता जा रहा था। एसओजी की जांच में अब यह बात साफ हो चुकी है कि रीट परीक्षा में पेपर लीक की घटना हुई थी। 

विपक्ष कर रहा था विरोध
रीट 2021 पेपर लीक को लेकर राज्य में विपक्षी पार्टी भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साध रही थी। राज्य के कई स्थानों पर छात्र भी बड़ी संख्या में परीक्षा में हुई धांधली के कारण सरकार के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे। छात्रों इस परीक्षा को रद्द करने की मांग कर रहे थे। 

लोकसभा में भी उठा था मुद्दा
रीट पेपर लीक का मामला लोकसभा में उठाया गया था। राजस्थान के नागौर से आरएलपी के सांसद हनुमान बेनीवाल ने इस परीक्षा को रद्द करने और पेपर लीक मामले में सीबीआई जांच की मांग उठाई थी। 

REET Paper Leak पर बवाल

सोशल मीडिया पर यूं बाेला था असलम
31 जनवरी को असलम चौपदार की ओर से सोशल मीडिया पर एक लाइव वीडियो में मंत्री मालवीया का नाम लिए बिना ये कहा गया कि TSP क्षेत्र के एक बड़े मंत्री भी REET पेपर लीक(REET Paper Leak Case) करने वाली सूची में शामिल हैं। इस बीच लाइव पर आए कमेंट को पढ़ते हुए असलम ने मंत्री मालवीया का नाम लिया था। इसके तुरंत बाद मंत्री मालवीया की ओर से आनंदपुरी थाने में बांसवाड़ा SP के नाम एक शिकायत दी गई थी। पुलिस ने असलम को आरोपी मानते हुए कार्रवाई की।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में शामिल होने के लिए यहाँ क्लिक करें – Click Here

REET Paper Leak Case: अन्य लोगों से पूछताछ जारी 

पेपर लीक मामले में जालोर और बाड़मेर निवासी कुछ अन्य संदिग्ध लोगों से भी पूछताछ की जा रही है। बाड़मेर निवासी भजनलाल विश्नोई का बाड़मेर में परीक्षा से जुड़े अधिकारियों से तालमेल के संबंध में भी जांच की जा रही है। अभी इसका खुलासा नहीं किया गया है कि बाड़मेर में कीतने परीक्षार्थियों तक पेपर पहुंचाया गया।

रीट भर्ती परीक्षा रद्द करने की मांग बीजेपी कार्यकर्ता दोपहर में सिविल लाइंस तक पहुंच गये. बीजेपी के प्रदर्शन को देखते हुये वहां पुलिस का भारी बंदोबस्त किया गया था लेकिन वह नाकाफी साबित हुआ. प्रदर्शन के दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस में जमकर जोर आजमाइश हुई. बाद में पुलिस और बीजेपी कार्यकर्ताओं में झड़प हो गई. इस पर पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज कर दिया. बाद में पुलिस ने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया समेत 2 दर्जन कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया. पुलिस उनको दो बसों में भरकर झोटवाड़ा थाने ले गई.

REET Paper Leak पर बवाल

REET Paper Leak- नकल और पेपर लीक की घटनाओं पर अब चेती सरकार, उच्च स्तरीय कमेटी बनाई: रीट परीक्षा के पेपर लीक और नकल प्रकरण (REET paper leak and copying case) पर मचे बवाल के बाद राज्य सरकार ने प्रतियोगी परीक्षाओं के सुचारू आयोजन पर सुझाव देने के लिए उच्च स्तरीय समिति गठित कर दी है. हाई कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस विजय कुमार व्यास की अध्यक्षता में यह उच्च स्तरीय समिति गठित की गई है. पूर्व आईपीएस अधिकारी एवं आरपीएससी के पूर्व अध्यक्ष महेन्द्र कुमावत इस समिति में सदस्य होंगे. कार्मिक विभाग के प्रमुख शासन सचिव सदस्य सचिव होंगे. यह समिति विभिन्न बिंदुओं पर अध्ययन कर 45 दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी.

पिछले दिनों सीएम अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई उच्चस्तरीय समिति की बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया था. मुख्यमंत्री ने प्रतियोगी परीक्षाओं में नकल और पेपर लीक(REET Paper Leak Case) जैसी घटनाओं को रोकने के संबंध में सुझाव देने के लिए जल्द उच्च स्तरीय समिति गठित करने के निर्देश दिए थे. अब यह समिति इन बिन्दुओं पर काम करेगी.

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें – Click Here

REET Paper Leak: REET Exam 2021

क्या रीट लेवल-1 की परीक्षा में भी हुई गड़बड़?
क्या वाकई मुन्नाभाई सक्रिय थे इस परीक्षा में?

एक अभ्यर्थी ने भरे छह आवेदन, सभी पर आए परमिशन लैटर
नाम-योग्यता एक, लेकिन फोटो में गड़बड़ी की आशंका

जोधपुर के एक अभ्यर्थी के छह आवेदन का एक ही परीक्षा केन्द्र
आखिर छह आवेदन भरने के बाद पांच क्यों नहीं हुए खारिज?

नियमानुसार केवल अन्तिम आवेदन पर आना था परमिशन लैटर
सभी छह आवेदन पर जारी हुए परमिशन लैटर

जयपुर में लॉ कॉलेज में आया सभी छह फॉर्म पर सेन्टर
क्या माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में थी मिलीभगत?

जब भाई-बहन के सेन्टर एक जगह नहीं आए तो एक अभ्यर्थी के क्यों?
क्या रोल नम्बर या वर्णमाला के क्रम में दिए सेन्टर?

सभी छह आवेदन पर एक जगह परीक्षा केन्द्र आना चमत्कार
क्या इस चमत्कार में बोर्ड के किसी चमत्कारी का योगदान?

कई फॉर्म में अलग-अलग फोन नम्बर भी दिये गए
क्या जांच ऐजेन्सियां देंगी इस पर भी ध्यान?

हालांकि रीट लेवल-1 में धांधली से किया जा रहा इनकार
लेकिन क्या जांच से भी परहेज करेंगी ऐजेन्सियां?

अभ्यर्थी ने रीट लेवल-1 में नहीं दी स्नातक की जानकारी
जबकी रीट लेवल-2 में दी है स्नातक योग्यता की जानकारी

अभ्यर्थी का रीट लेवल-1 में हुआ चयन, लेवल-2 में खारिज
लेवल-1 में 150 में से 132 नम्बर, जबकि लेवल-2 में केवल 32 नम्बर

क्या दो पेपर में इतना अन्तर माना जाए सामान्य?
क्या 32 बनाम 132 का अन्तर महज एक इत्तेफ़ाक?

Previous articleRajasthan Technical Helper Bharti Syllabus 2022 राजस्थान टेक्निकल हेल्पर भर्ती सिलेबस जारी
Next articleAUD Recruitment 2022: Apply Online Post-22